टाइपिंग स्पीड कैसे बढ़ाएं

टाइपिंग का नाम सुनकर तो एक बार टाइप राईटर कि याद आती हि हैं इसका साऊंड इसपर टाइप करने की स्टाईल सबकुछ आजसे काफी डिफरेंट ही था। हा लेकिन अब कंप्यूटर पर टाइप करना आसान हो गया है काफी लकी है हम लोग लिकिन हम है की शिकायत करते ही जाते है जैसे की टाइपिंग स्पीड कैसे बढ़ाएं।

ये तो बड़ा मुश्किल है और भी नजाने क्या क्या जब की हमे करना क्या चाहिए टाइपिंग की प्रैक्टिस, जी हा हमे टाइपिंग की प्रैक्टिस करना चाहिए क्योंकि आज कंप्यूटर पर टाइपिंग करना बेहत आसान हो गया हैं।

और इस टास्क को पूरा करने की लिए सिर्फ ट्रिक और ढेर सारी प्रैक्टिस की ही जरूरत हैं, याने प्रैक्टिस की और टाइपिंग के बेसिक्स आपने जान लिए तो बात बड़ी आसानी से बन सकती हैं।

और आज कल तो जादातर वर्क कंप्यूटर बेस हो गया हैं जिसमे स्ट्रॉन्ग टाइपिंग स्किल्स रिक्वायर्ड होती हैं जिसमे स्पीड और एक्यूरेसी दोनो साथ साथ चलती हैं।

और इस कंप्यूटेटिव वर्ल्ड मे मिलने वाली जॉब अपोंंच्युनेटी स्लो टाइपिंग स्पीड और रॉन्ग टाइपिंग मेथड की वजह से हात से जाने देना तो ठीक नहीं होगा ना।

इसलिए बहेतर यही होगा की इतना कुछ सीखते रखने के साथ साथ हम अपनी टाइपिंग स्पीड को भी इंप्रूव कर ले क्योंकि आप माने या न माने टाइपिंग एक एसेंशियल ऑफिस स्किल है।

वैसे क्या आप को यह पता है की टाइपिंग स्पीड को डब्लू पी एम यानी की वर्ड्स पर मिनट मे मेजर किया जाता हैं 60 तो 80 डब्लू पी एम को एक एवरेज पर्सन के लिए गुड इनफ माना जाता हैं।

बाकी तो आपके जॉब के अकॉर्डिंग से टाइपिंग स्पीड डिसाइडेड होती है जिसमे कहिबार इससे जादा स्पीड रिक्वायर्ड होती हैं तो कही बार कम स्पीड मे भी बात बन जाती हैं।

इसलिए जॉब पॉसिबिलिटीज को इंक्रीज करने के लिए आपको टाइपिंग प्रैक्टिस तो करलेनी ही चाहिए और कुछ टाइम निकालकर ये हेल्पफुल लेख को भी पूरा पढ़ लेना चाहिए।

क्योंकि इसमें टाइपिंग बेसिक्स भी है ओर स्पीड इंप्रूव करने के तरीके भी, इसलिए लेख को पूरा पढ़ते जाइए और उसके बाद टाइपिंग की प्रैक्टिस शुरू कर दीजिए तो चलिए शुरू करते और जानते है टाइपिंग इंप्रूव करने के बेस्ट टिप्स।

टाइपिंग स्पीड कैसे बढ़ाएं

टाइपिंग स्पीड कैसे बढ़ाएं

नंबर 1

नंबर एक पर है शुरुवात मैं थोड़ा स्लो रहिए सुनने मे बड़ा अजीब लगा होगा ना की स्पीड बडानी है और स्लो होने के लिए कहा जहा रहा है।

ये कैसी बात हुई, ऐसी कैसी बडेगी टाइपिंग स्पीड, लेकिन इतना सब सोचने के बजाय इस बात को समझिएगा की कोई भी नई चीज पहिले अच्छेसे समझना बेहत जरुरी होता हैं।

वरना हड़बड़ी में स्पीड तो फास्ट हो जाती है, लेकिन कंसेप्ट पीछे छुट जाता हैं कुछ ऐसा ही टाइपिंग के साथ भी होता है शुरूवात में आपको कीबोर्ड पर प्रॉपर हैंड पोजिशन को समझना होगा और शुरुवात मैं मोस्ट कॉमन वर्ड्स को टाइप करना होगा, ऐसा करके आप टाइपिंग प्रोसेस से फैमिलियर हो पाएंगे जो लर्निंग की फर्स्ट रिक्वायरमेंट होती हैं तो अब तो आप समझ गए होगे ना स्लो का मतलब।

नंबर 2

इसी के साथ आगे नंबर दो पर आता है प्रॉपर हैंड प्लेसमेंट के साथ ही प्रैक्टिस करे टाइपिंग के लिए प्रॉपर हैंड प्लेसमेंट क्या होता है यह जानना बेहत जरूरी होता है।

इसलिए शुरू करते समय पहिले लेफ्ट हैंड फिंगर को ए इस डी और एफ के कीज पर रखे और राइट हैंड के फिंगर को जे के एल और सेमिकॉलम सिम्बोल पर रखे।

कही कीबोर्ड में आपको एफ और एल लेटर के ट्याप थोड़े उठे होए दिखाई देंगे जो आपको यह बताते है कि जो आपको आपने लेफ्ट एंड राइट पिंटर्स फिंगर इन अल्फाबेट पर रखने हैं।

वैसे पिंटर फिंगर तो आप समझ गए हैना जैसे हम किसकी तरफ पॉइंट करके कुछ बताते है एक्साटली वही थम के पासवाली फिंगर को कहते है और बस बाकी वाली फिंगर तो इसके अकॉर्डिंग सेट होई जायेगी।

इस बार आपके थम स्पेस बार के ऊपर रहेंगे इस तरह हैंड पोजिशन बना लेने के बाद आप टाइपिंग शुरू कर सकते हैं, आप को यह भी पता होना चाहिए की ए एस डी एफ वाली रो को होम रो भी कहा जाता हैं।

जिसमे हर फिंगर अपने ऊपर और नीचे की केस को टाइड करने के लिए रिस्पॉन्सिबल होती हैं, और की प्रेस करने के बाद हर फिंगर अपने घर पर वापस आजाती हैं आई मीन होम रो पर अपनी पोजिशन पर वापस आ जाती हैं।

नंबर 3

नंबर तीन स्क्रीन पर फोकस करिए हैंड्स पर नहीं टाइप करते समय अगर आपने सही हैंड प्लेसमेंट किया है तो आपको हैंड्स को देखते रहने की जरूरत नहीं है बल्कि आपका पूरा फोकस स्क्रीन पर रहना चाहिए।

जहा पर सबकुछ टाइप हो रहा है, वैसे शुरू में यह किसी टफ टास्क से कम नहीं लगेगा, वैसे यह तो आप जानते ही हो की जो कुछ शुरुवात में टफ लगता है इसका मतलब यह नहीं कि वो वाकई में टफ हो।

और टाइपिंग बिलकुल भी मुस्किल नही है और इस लेख के बाद तो यह और भी आसान होजाएगी, क्योंकि आप जब सही प्रैक्टिस करोगे तो आपको स्क्रीन पर देखते हुए टाइपिंग करना बेहत आसान होता जाएगा। और आपकी एक्यूरेसी भी इंप्रूव होती जायेगी जो की वाकई में जरूरी होती हैं।

नंबर 4

नंबर चार, हातो को कंफर्टेबल पोजिशन पर रखे यह टिप्स सुनने में जितनी छोटी है उतनी ही ज्यादा इसकी इंप्रोटंस भी हैं टाइपिंग में क्योंकि लंबे समय तब टाइपिंग करने के लिए जरूरी यह है कि आप अपने हातो को कंफर्टेबल पोजिशन पर रखे और हमारे हातो को कोई भी परिषाणी न हो।

वरना अच्छी स्पीड होने के बाद भी आपको टाइपिंग करना मुश्किल हो जाएगा अगर आपके होतो में दर्द रहने लगेगा तो आप कैसे टाइपिंग करेगे इसलिए टाइप करते समय आपने एल्बो को अच्छी तरह टेबल पर आराम करने दे रेस्ट करने दे और अपने रिस्ट को भी बैंड कर के तकलीफ ना दे।

नंबर 5

आगे नंबर पाच पर है एक्यूरेसी को भी इंपोर्टेंस दीजिए टाइपिंग स्पीड में सुधार करने के साथ एक्यूरेसी पर फोकस करना भी बेहत जरूरी है क्योंकि जब डब्लू पी एम कैलकुलेट किए जाते है तब मिस्टेक्स यानी गलतियां आपके परफॉर्मेंस को पूअर बना सकती हैं।

तो स्पीड बडाने पे जोर ना दे बल्कि एक्यूरेसी के साथ स्पीड को बड़ाने पे फोकस करे इसलिए आपको बस इतना करना है कि शुरुवात से आपको एक्यूरेसी पर ध्यान देना होगा भले ही शुरुवात में आप स्लो टाइपिंग करने लगे लेकिन कॉन्स्टन प्रैक्टिस से आप परफेक्ट टाइपिंग सिख जायोग।

जिसमे एक्यूरेसी भी होगी और स्पीड भी और यही तो आप चाहते हैं, है ना

नंबर 6

और आगे नंबर छे पर है राइट पोस्चर और पोजिशन चूज करे सही तरह और कम टाइम में टाइपिंग एक्सपर्ट बनने के लिए आपको टाइप करने के अलावा दूसरी चीजों का भी आपको ध्यान रखना होगा।

जैसे की चेयर पर सीधे बैठे और कीबोर्ड या लैपटॉप टेबल पर कंफर्टेबल हाइट पर रखे स्क्रीन को आखों से पंधरा से पच्चीस इंच दूरी पर रखे अपनी एल्बोस को नायंटी डिग्री एंगल पर बैंड करे अपने पोस्चर को स्ट्रेट और कंफर्टेबल बनाते हुए स्टार्ट करे।

नंबर 7

और नंबर सात पर है प्रैक्टिस मे कोई भी कैंजुसी मत करे टाइपिंग और प्रैक्टिस को जिगरी दोस्त भी कहा जा सकता है जो की आप प्रैक्टिस करोगे तो टाइपिंग तो आ कर रहेगी और टाइपिंग करते रहोगे तो प्रैक्टिस तो होई जायेगी, समझ गए ना और येतो तो बिल्कुल मत सोचिए की नई स्किल्स की सीखना आपके लिए बेहत मुश्किल हो जाएगा क्योंकि हमारा ब्रेन हमेशा नई स्किल्स को सीखने के लिए तैयार रहता हैं।

और एक बार आप राइट टाइपिंग स्किल्स सिख लेंगे तो हमेशा के लिए टाइपिंग मास्टर बन जायोगे और किसी स्किल्स मे मास्टर बनना कैसा होता है ये तो आपको प्रैक्टिस करके ही पता चलेगा।

इसलिए प्रैक्टिस करते रहिए, और अगर आपको इसे और आसान और इंट्रेस्टिंग बनाना है तो ऑनलाइन रिसोर्सेस की हेल्प भी आप ले सकते है जिसमे टाइपिंग रेसिंग गेम टाइपिंग वॉर मास्टर टाइपिंग निंजा गेम जैसे गेम्स भी शामिल है।

और इस तरीके से इन सात टिप्स को ध्यान मे रखकर इनकी हेल्प लेकर टाइपिंग के प्रैक्टिस मे जूट जाइए ताकि आपकी स्पीड और एक्यूरेसी जल्द से जल्द बढ जाए और अगर आप इस लेख को पढ़कर टाइपिंग करने के लिए एंकरेज हुए हो और आपको ये लेख हेल्पफुल भी लगा हो तो इसे लाइक जरुर कीजिएगा और कमेंट बॉक्स मै लिखकर जरूर बताएगा की यह टाइपिंग स्पीड कैसे बढ़ाएं जानकारी आपको कैसी लगी क्योंकि हमे भी मोटिवेशन मिलता है आगे ऐसे लेख बनाने का।

जरूर पढ़ें:-

सो आपका प्यार हमारे लिए जरुरी हैं वैसे आप आपके दोस्तो के साथ भी शेयर करने वाले है ना जो टाइपिंग स्पीड को लेकर थोड़ा टेंशन मे रहते है प्लीज़ जरूर कीजिएगा और अगर आज पहिली बार हमारे ब्लॉग पर आए हैं तो ऐसे अमेजिंग जानकारियां आपको हमेशा मिलती रहे दो काम कर लीजिएगा पहिले तो सब्सक्राइब कर लीजिए और दूसरा एक अछासा सवाल कमेंट में लिखिए गा, आकाश सावदेकर मिलेंगे आपसे अगले लेख मे अगली जानकारी के साथ तब तक के लिए भेजते रहिए आप अपने सवाल और जुड़े रहिए the24hindi के साथ धन्यवाद।

नमस्ते दोस्तों मेरा नाम Akash Sawdekar है the24hindi.com का Author हु। दोस्तों मुझे Internet पर जानकारी पढ़ना बोहत पसंद है, अगर आपको भी मेरी तरा जानकारी पढ़ना अच्या लगता है तो आप इस Site को Subscribe कर सकते हो धन्यवाद।

Leave a Comment