5G तकनीक क्या है? | 5G full detail in hindi

5G तकनीक क्या है? | 5G full detail in hindi
5G तकनीक क्या है? | 5G full detail in hindi

 5G तकनीक क्या है? | 5G full detail in hindi

हेलो दोस्तो, मेरा नाम है Akash ओर स्वागत है आपका the24hindi.com पर। 5G तकनीक क्या है? | 5G full detail in hindi

दोस्तो आज के इस लेख में हैम जानेंगे 5G क्या है? 5G कैसे काम करता है? 5G कब आएगा? 5G के फायदे ओर नुकसान क्या है और भी कुछ।

दोस्तो इस लेख मैं हम शुरुवात से लेकर आखिर तक सब जानेंगे, कि कैसे wireless technology इम्प्रोव होते गई?

कैसे इस wireless technology का हमारे जीवन पर प्रभाव गिरा।

ओर ये technology कैसे ओर कब launch कि गई?
तो चलिये शुरुवात से जानते है।

1. 1G

दोस्तो wireless technology कि बात कि जाये तो, सबसे पहिले आता है 1G यानिकि first generation of
wireless technology.

दोस्तो 1G को 1981 में launch किया गया। और उस time 1G कि Maximum speed थि 2.4kbps.

दोस्तों उस वक्त 1G यानी कि first generation में Radio Analog Signals का इस्तेमाल किया जाता था।

दोस्तो Radio Analog Signals से आप सिर्फ Phone पे बाते कर पाते थे।

ओर दोस्तो Radio Analog Signals में less penetration level होने के कारण जो Voice quality थी ओ कुछ खास नही थि।

ओर Radio Analog Signals यूज़ करने के कारण उसके Signals ज्यादा दूर तक नही ज्यापाते थे।
इसी कारण ये Technology ज्यादा Expand नही हो पाई।

दोस्तो किसिभी Technology कि जो first generation होती है। ओ इतनी खास नही होती।

उसे कई सारी improvement कि बहुत जरूरत होती है।
तो इस ही तारा ये wireless technology का first generation था।

तो इसही लिये यहापर आपको जो Voice quality ओर Speed मिल ति थि ओ कुछ खास नही थि।

2. 2G

 

first generation के low quality voice ओर low speed के कारण 1991 में 2G यानि कि second generation of wireless technology को launch किया गया।

जिसमें कि GSM को introduce किया गया। GSM का full form group special module था।

जो कि europe union में बनाया गया था। GSM system ये सिर्फ उसी region में काम करता था।

धीरे धीरे ये global बनता गया फिर इसे world wide launch किया गया।

World wide launch होने के बाद इसका नाम  GSM से global system for mobile communication रख दिया गया।

क्योकि 2G में digital signal का यूज़ किया गया था। तो ये 1G के मुकाबले ज्यादा तेज था। और इससे ठीक ठाक communication हो ज्याति थी।

इसी के साथ technology बढ़ती गई, ओर Communication के साथ डेटा Access करना भी available होता गया।

इस ही बढ़ती technology को नाम दिया गया 2.5G यानी (GPRS)

दोस्तो GPRS में आपको Communication के साथ साथ Data Access ओर Short Massage Service यानी कि SMS Service दी ज्याति थी।

परंतु इसमे Data रेट बहुत हि कम था करीब करीब 50 to 60 kbps

Deta रेट को बढ़ाने के बाद 2.5G को 2.75G करदिया गया, जिस को कि (EDGE) कहते है।

इस EDGE technology में आपको 90 से लेकर 120kbps कि speed मिलति थि।

इसे हि wireless technology  में improvement होति गई।

3. 3G

दोस्तो इसेही first generation ओर second generation में improvement होते होते 3G को launch किया गया।

जिसमे more data rate बढते गये। जिससे आप voice call के साथ ओर भी नये future use कर सकते थे।

जिसमे सबसे ज्यादा popular जो चल रहा था ओ था video calling.

दोस्तो 3G system को कहते है, UMTS (Universal Mobile Telecommunication System)

इस हि 3G को upgrade करके 3.5G को launch किया गया

दोस्तो 3.5G को HSDPA ओर HSUPA कहा ज्याता है।

ओर इसी को भी upgrade कर 3.75G को launch करदिया गया। जिसे की HSPA+ बोला ज्याता है।

तो 3G system को भि 2G के तरा 3G + 3.5G + 3.75G improvement किया गया।

4. 4G

इस ही तरा internet का craze बढ़ाता गया। ओर 4G को launch करदिया गया।

दोस्तो 4G को (LTE Advance ) कहा जाता है।

दोस्तो 4G में एक standard सेट किया गया।

दोस्तो 4G system में आपको यक ही जगा यानी कि जहांपर सिर्फ आप ही internet use कर रहे हो।

तब आपको 1gbps कि speed मिलनी चाहिए

ओर जब आप public place में internet use करते हो। तो आपको speed मिलनि चाहिए 100mbps

अगर आपको आपका operator ये standard दे रहा है। तो माना जायेगा आप 4G use कर रहे हो।

दोस्तो अभीतक हमने wireless technology के improvement ओर upgrade के बारेमे देखा।

अब हम आने अली 5G यानि 5th generation of wireless technology के बारेमे देखेंगे।

5. What is 5G? | 5G तकनीक क्या है?

 5G तकनीक क्या है? | 5G full detail in hindi
5G तकनीक क्या है? | 5G full detail in hindi
दोस्तों 5G ये wireless technology का 5th generation है।

जैसे कि आपने देखा कैसे wireless technology विकसित होती गई।

हर एक generation के बाद ये technology बेहतर होती गई।

अब ओर भी बेहतर होगी जब 5G technology आयेगी।

दोस्तो अनुमान लगाया ज्यारहा है कि 5G ये 4G से 60 से 70 गुना तेज होगा।

theoretical अनुमान लगाया ज्याय तो 5G कि speed होगी 20Gbps। आप देख सकते हो कि 5G 4G से कितना ज्यादा तेज होगा।

दोस्तो 5G के मदतसे आप multiple devices internet से connecte कर पाओगे।

जैसे कि आपका घर। दोस्तों 5G के जरिये आप अपने घर को smart home बना सकते हो।

दोस्तो आप दूरसे ही अपने स्मार्टफोन के जरिये घरके सारे electric device को Controll कर सकते हों। ये सिर्फ low letency के जरिये ही मुमकिन होगा। जो कि 5G में available होगा।

दोस्तो latency मतलब Response time अगर आप किसी search engine पर कुछ tipe करते हो। तो result show होने में कितना टाइम लगता है।

दोस्तो 4G में ये आपको 40ms time लगता था यानी कि आप Google पर कुछ tipe कर enter करते हो तो आपको 40ms में result show होता है।

दोस्तो 5G में आपको 1ms टाइम लगेगा मतलब अपने कुछ टाइम किया याफिर कुछ command दिया तो फटॉक्से result आपके सामने आयेगा।

दोस्तो 5G में अलग तरकि frequency use की जाए गई जिससे भारी public में भी आपकी internet speed stable रहेगी।

दोस्तों इन सभी technology में electro magnetic waves का इस्तेमाल किया ज्याता है।

दोस्तो इसी electro magnetic waves द्वारा data औऱ information का आदान प्रदान होता रहता है।

दोस्तो electro magnetic waves में electro magnetic frequency एक मुख्य भूमिका निभाती है।

आसान भाषा मे देखा जाए तो frequency मतलब किसी वेव की energy या फिर data transfer capacity को कहा ज्या सकता है।

जितनी ज्यादा frequency उतना ज्यादा data transfer करने कि capacity हो सकती है।

दोस्तो 4G कि बात कि जाये तो 4G 2GHz से लेकर 8GHz कि frequency इस्तमाल करता है।

वही 5G कि बात की जाये तो 5G 50GHz से भी अधिक की frequency use कर सकता है।

6. Types of 5G | 5G के प्रकार

1. Low band 5G

 
 
Low band 5G high range यानी लंबी दूरी तय करने वाली low frequency use करता है।
 
जिसकी data caring यानी कि data transfer capacity 4G जितनी याफिर उससे थोड़ी ज्यादा होती है।
 

2. Mid band 5G

 
Mid band 5G ये Low band 5G के विपरीत ज्यादा data caring capacity यानी data transfer capacity देता है।
 
परंतु mid band 5G ये low band 5G से कम range देता है।
 

3. High band 5G

 
दोस्तो अपने 10Gbps के 5G speed को सुना ही होगा।5G कि 10Gbps speed इस ही band में संभव हो सकती है।
 
High band 5G data caring के लिए मील मिटर वेव्स का इस्तेमाल करता है।
 
ये मिली मीटर वेव्स बोहत ही high speed में डेटा को ट्रांसफर करता है।
 
परंतु इस वेव्स कि range 500 meter तक हि ज्यापाती है।
 

7. How 5G technology works ? | 5G technology कैसे काम करती है?

दोस्तो 5G technology सिर्फ एक उपकरणों पर नही बल्कि बोहत सारे इपकर्णो को एक साथ कनेक्ट करती है।

इसी लिए इसे 4G के मुकाबले ज्यादा पॉवर लगेगी। इसी कारण इसमें बोहत सारे टेक्नोलॉजी का यूज़ किया जाएगा जिसमे से मुख्य होंगे

1. Small cells
2. Massive mimo
3. Beamforming
4. Full duplex

1. Small Cells

दोस्तो जैसे कि आपने पढ़ा 5G में High Frequency  Waves का इस्तमाल किया जायेगा जोकि पहिले नही होता था।

दोस्तों high frequency से speed तो बढ़ाई जा सकती है। लेकिन ओ ज्यादा दूर तक नही ज्या सजती।

इसीका समाधान निकलते हुये 5G में Small Cells Technology का इस्तेमाल किया गया।

दोस्तो इस Small Cells Technology में हर 150 metres में एक seluler tower लगाया जायेगा।

दोस्तो इस tower का साइज बोहत ही कम होगा जिससे इसे कोनसी भी जगा पर install किया ज्या सकता है।

2. Massive mimo

दस्तो Massive mimo को multiple input ओर multiple output कहा ज्याता है।

Massive mimo ये एक Method है जिससे रेडियो एंटीना से एक साथ कैई signal को मैनेज किया ज्या सकता है

दोस्तो Massive mimo का इस्तेमाल 4G में भी किया ज्याता है। परन्तु जो 4G का टॉवर होता है उसमे केवल 12 antenna ports होते है।

ओर research के मुताबिक 5G टावर में 100 antenna ports होंगे।

सिंपल में समाजा जाये तो 5G का टावर एकसाथ कई लोगोको सिग्नल ले और दे सकता है। इसी के लिए ये technology विकसित की गई है।

3. Beamforming

दोस्तो किसिभी नेटवर्किंग टावर की जो वेव होती है, ओ टावर के चारो ओर फैलती रहती है।

ओर दोस्तो 5G में हर 150 मीटर पर एक छोटा टावर लगाया जायेगा। ओर 5G के टावर में 100 antenna ports लगाये जायेंगे।

इसीलिये दोस्तो एक ही जगा पर बोहत सारे टावर होने के कारण, जो टावर सिग्नल है ओ एक साथ interference कर सकते थे।

इसी का समाधान निकल ने के लिए Beamforming technology का इस्तेमाल किया गया।

दोस्तों Beamforming technology में जो टावर सिग्नल होता है ओ चारो ओर नही जाकर सीधा आपके स्मार्टफोन में जाता है।

दोस्तो Beamforming technology के कारण इसमे signal strength strong ओर low disturbance रहता हैं।

4. Full duplex

दोस्तो Full duplex तकनीक का इस्तमाल signal का रास्ता double lane कसरने के लिये किया ज्याता है।

दोस्तो पहिले के टावर एक ही समय पर signal ले पाते थे।  या फिर signal को भेज पाते थे।

लेकिन दोस्तो इस Full duplex technology के कारण अब टावर एक साथ signals receive कर सकता है और send भी कर सकता है।

8. difference between 4g and 5g in hindi

Speed

दोस्तों जैसे कि अपने पढ़ा किसी भी technology की जो upgrade generation होती है ओ पिछले generation से ज्यादा fast होती है।

तो obviously दोस्तो 5G ये 4G के मुकाबले ज्यादा Advance होगी।

दोस्तो 4G में सिंपल ओर general technology का use किया गया है।

ओर दोस्तो 5G में Fully Advance technology का use किया जायेगा।

दोस्तो 4G की theoretically speed 100mbps है।

ओर 5G की theoretically speed होने वाली है 10gbps यानी कि 5G ये 4G के मुकाबले सो गुना ज्यादा तेज होगा।

दोस्तो Report के अनुसार सामने आया है कि इस speed से आप 2 घंटे की Full HD Movie 3.6 Second में Download कर सकते हो।

यही पर 4G में आपको 2 घंटे की Full HD Movie download करने के लिये 6 minutes लगते है।

latency

दोस्तो latency को सिंपल वर्ड में समझा जाए तो, जब आप अपने किसी दोस्त को massage भेजते हो, तो आपके phone से send होने से लेकर उस दोस्त को receive होने तक जो टाइम लगता है उसे latency कहा ज्या सकता है।

वैसे देखा जाय तो 4G में latency problem कम ही दिखाई देती है। ओर 5G के आने के बात ये latency 0℅ हो जायेगी।

ये समय बोहत ही काम यानी मिली सेकेंड का होता है।

Buffering

दोस्तो जब भी आप इंटरनेट पर विडियो देख ते हो तो low इंटेरनेट कनेक्टिविटी के कारण ओ विडियो रुख रुख कर चलने लगता है।

ओर screen पर गोल गोल घूमते हुए एक सफेद गोला दिखता है।

दोस्तो ये problem ज्यादा तर 2G ओर 5G में ज्याद दिखाई देती थी।

लेकिन कभी कभी ये problem 4G में भी दिखाई देती है।

ओर माना ज्या रहा है कि 5G के आनेके बाद ये problem नाके बराबर हो जाय गी।

Loading

दोस्तों आप किसी भी वेबसाइट को ओपन करते हो तो उसे load होने में थोडा टाइम लगता है।

याफिर आप किसी keywored को google पर search करते हो। तो उस पेज व्यू load होने में थोड़ा टाइम लगता है।

4G की बात की जाये तो 4G में ये loading speed ठीक ठाक है।

ओर 5G की बात की जाये तो ये loading speed एक इतिहास ही बंजाये ग।

Cloud Gaming

दोस्तो Cloud Gaming से आप बड़े बड़े वाले computer गेम अपने स्मार्टफोन खेल सकते हो।

दस्तो Cloud Gaming में आपका स्मार्टफोन उस कंपनी के server से connect रहता है।

ओर आप मोबाइल से command दे कर उस game को अपने हिसाबसे खेल सकते हो।

इसमे सबसे बड़ी problem  latency ओर Loading की आती है।

ओर ये problem अभीतक 4G में चलती आ रही है।

लेकिन 5G की बात की जाये तो 5G मैं ये problem पुरितरा खतम हो सकती है।

9. Advantages of 5g in hindi | 5 जी के फायदे हिंदी में

1. विशेषज्ञ का मानना है कि 5G से  Machine to

Machine Communication
IOT (Internet of things)
Automatically Self drivers cars
remote control surgery से लेकर virtual reality
जैसे सर्विस का विस्तार होगा।

2. एक साथ कई device को connect कर पायेंगे। आप दूरसे ही अपने स्मार्टफोन के जरिये अपने घर के सारे उपजरनोको कंट्रोल कर पाएंगे।

3. शेहर को नेटवर्क कनेक्टिविटी के माध्यमसे स्मार्ट बनाया ज्या सकेगा।

4. ऑनलाइन विडियो स्ट्रीम प्लेटफॉर्म पर यूजर बिना अटके बिना Buffering वीडियो देख पायेंगे।

5.  स्मार्ट स्टडी करना आसान हो जायेगा।

6. घर बैठे कोसीभी जगा को experience किया ज्या सकता है।

7. किसिभी वक्त किससे भी बात की ज्यासकेंगी जोभी virtual फ़ॉर्म में।

10.  disadvantages of 5G in hindi | 5G के नुकसान हिंदी में

1. 5G Fequency या फिर मिली मीटर वेव ज्यादा दूरतक नही ज्या पाती है। और ये वेव्स किसिभी ऑब्जेक्ट के आर पार नही ज्या पाती।

2. 5G Technology ये बोहत ही expensive है।

3. 5G Technology अभी के 4G स्मार्टफोन में सपोर्ट नही करती। 5G Technology को use करने के लिये सभ को अपने स्मार्टफोन को 5G में उपग्रडे करना पड़ेगा ये ज्यादा expensive हो सकता है।

4. Research के मुताबिक 5G Technology में cyber security जैसे crime बढ सकते है।

5. विशेषज्ञ का मानना है कि 5G Technology की मिली मिटर वेव्स human health के लिये खतरा हो सकते है।

6. इससे infrastructure download करने में बहुत ज्यादा पैसा लगेगा।

7. 5G की Technology अभी भी अंडर प्रोसेस है, ओर इसके पीछे रिसर्च ज्यारी है पता नही इस टेक्नोलॉजी को आने में कितना टाइम लगेगा।

10. when will 5g come in india | 5G भारत मे कब आयेगा।

दोस्तो इस सवाल का जवाब अभी तक किसी को नही आता।

हालांकि jio के फाउंडर मुकेश अंबानी ने कहा है कि 2021 के बीच तक 5G को पूरे भारत मे लॉन्च किया जायेगा।

वही airtel ने अपनी टेस्टिंग हैदराबाद में successfully की है। जहाँपर पर कई airtel यूज़र्स ने 5G का लाभ उठाया है।

ओर research के मुताबिक गवरमेंट ने अभीतक spectrum auction नही किया है।

जब तक spectrum auction नही होता तबतक 5G भारत में लॉन्च नही होगा।

हालांकि jio ओर airtel ने अपना पूरा सिस्टम 5G technology के लिये विकसित किया है। बस उन्हें 4G to 5G Switch करना है।

11. Is 5G safe? | क्या 5G सुरक्षित है?

दोस्तों 5G सुरक्षित है या नही ज्यांणसे पहिले हमे Radiation के बारे में जानना होगा।

दोस्तो Radiation 2 प्रकार के होते है।

1. Ionizing Radiation

2. Non-Ionizing Radiation

1. Ionizing Radiation

दोस्तो Ionizing Radiation ये X-RAYS, GANA RAYS, URANIUM, PLUTONIUM जैसे पदार्थ में पये ज्याते है।

दोस्तो इन पदार्थों से निकली Electromagnetic waves  में बोहत high energy or frequency होने के कारण ये  Human body में cancer पैदा कर सकती है।

2. Non-Ionizing Radiation

दोस्तो 5G Radio waves ओर micro waves जैसी Non-Ionizing Radiation radiation का इस्तेमाल करता है। इसी कारण इस radiation में Ionizing Radiation जैसे दूर प्रभाव नही दिखाई देते। हालाकि इस वेव्स से हिट पैदा करनेकी क्षमता देखी गई है। और परंतु 5G के इस क्षेत्रों में अभीतक रिसर्च चालू है।

 

Conclusion

दोस्तो इस लेख मैं हमने देखा कि, 5G क्या है? 5G कैसे काम करता है? 5G कब आएगा? 5G के फायदे ओर नुकसान क्या है? Types of 5G, technology कैसे काम करती है? difference between 4g and 5g, when will 5g come in india, 4G ओर 5G में क्या फर्क है? दोस्तो आष्या करता हु की आपके सारे सवालोक जवाब इस लेख मैं मिल गया हो अगर कुछ सवाल छूट गये हो तो प्लीज् मुझे शाम कीजिये। और आपके सवाल मुझे नीचे दिये गये massage box में बताये।

धन्यवाद।

 

 

नमस्ते दोस्तों मेरा नाम Akash Sawdekar है the24hindi.com का Author हु। दोस्तों मुझे Internet पर जानकारी पढ़ना बोहत पसंद है, अगर आपको भी मेरी तरा जानकारी पढ़ना अच्या लगता है तो आप इस Site को Subscribe कर सकते हो धन्यवाद।

1 thought on “5G तकनीक क्या है? | 5G full detail in hindi”

Leave a Comment